Success Suvichar in Hindi

Success Suvichar in Hindi

दुनिया में संभवत है ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने संघर्ष नहीं किया हो और उसे कोई विशेष उपलब्धि यूं ही प्राप्त हो गई हो| प्रतिकूलता ही आंतरिक शक्तियों का विकास कर महानता की प्राप्ति का राज मार्ग प्रशस्त करती हैं जो लक्ष्य सफलता पूर्वक प्राप्त हो जाए बिना किसी कष्ट कठिनाई के, क्या वह लक्ष्य जीवन मे कोई मायने रखेगा ?
 
वस्तुतः जीवन फूलों की सेज नहीं स्वर्ण रणभूमि है चुनौतियों की श्रृंखला है जहां प्रतिकूल परिस्थितियो का सामना करना ही पड़ेगा | प्रतिकूल परिस्थितियो को तो अपने लिए सीढी बना लेना चाहिए चट्टान नहीं | प्रतिकूल परिस्थितियां उत्पन्न होने पर घबराने भयभीत होने के बजाए उन्हें सहज रुप से स्वीकार करते हुए आत्मविश्वास एवं ईश्वरविश्वास के साथ स्वयं को सतत प्रेरणा देते हुए अपने विवेक के साथ धैर्ये से आगे बढ़ते रहना चाहिए |
 
जिसे एक बार जीवन में प्रतिकूल परिस्थितियो का स्वाद प्राप्त हो जाता है वह जीवन में किसी भी डगर पर बिना डरे आगे बड़ सकता है |

Leave a Reply