खटमल, पिस्सु और राजा की कहानी Panchatantra Tales for kids

खटमल और पिस्सु : Panchatantra Story

अवन्ती नाम की एक सफ़ेद पिस्सु थी। वह रेशम के बिस्तर पर बिछौने के सलवटों मेँ आराम से रहती थी, वो भी एक देश के राजा के बिस्तर पर। वो बहुत ही आराम से कभी भी राजा का खून चूसती और किसी को नजर भी नहीं आती। इस तरह आराम से अपना जीवन-यापन कर रही थी। एक दिन एक खटमल राजा के सुंदर से शयन कक्ष मेँ प्रेवश कर गया जब उस प्यारी सी पिस्सु ने उसको देखा तो सचेत कराते हुए बोली “तुम यहाँ क्या कर रहे हो वो भी राजा के शयन कक्ष मेँ, तुरंत यहाँ से चले जाओ नहीं तो पकड़े जाओगे और जान से जाओगे”।

खटमल ने उत्तर दिया महोदया माना कि मैं आपके किसी काम का नहीं परंतु मेहमान से अच्छा व्यवहार तो करना चाहिए प्यार से बोलकर मेहमानबाजी मेँ कुछ खिलाना भी चाहिए वो लगातार बोलता ही रहा कि मैंने हर प्रकार के खून पिए है परंतु एक राजा का खून कितना मीठा होगा ना राजा अपनी पसंद का अच्छा खाना जो खाता है तुम मुझे एक बार इसे चखने दो ना तुम्हारा क्या बिगड़ जाएगा। 

पिस्सु ने कहा “देखो खटमल तुम अपने तीखे पैने डंक को मारोगे जो बहुत दर्दनाक होगे, अच्छा तुम नहीं मानते तो एक काम करो पहले राजा को गहरी नींद मेँ सोने दो तब ही ऐसा करना”, उसने हामी भर ली और राजा आ कर सोने लगे वो अधीर हो गया राजा का गहरी नींद मेँ सोने का इंतजार न कर सका और राजा को डंक मार ही दिया | राजा ने अपने नौकर को बुलाकर डाँटा कि मेरा बिस्तर मुझे कैसे काट रहा है इस पर उन्होने एक-एक परत अच्छी तरह जाँची | चादरों की एक सलबट मेँ वो दोनों मिल गए और मारे गए।

शिक्षा – मित्रों के झूठे वादो और अंजान लोगो पर भरोसा करने की कीमत जान देकर चुकनी पड़ सकती है।

Leave a Reply