Jyothi Reddy Success Story Hindi- Inspiring Biography

Jyothi Reddy Success Story Hindi – Inspiring Biography CEO, Key Software Solutions

ये Success कहानी उस जूझारू औरत की है जिसने आंध्र प्रदेश के छोटे से गावं मे जन्म लेकर 5 Rupees की मजदूरी से शुरू करके $5 million टर्नओवर की कंपनी तक पहुंची है | ज्योति ने सफलता पाने के लिए एक बड़ी लड़ाई लड़ी है| वह तेलंगाना में एक अनाथ के रूप में बड़ी हुई और अमेरिका की एक बड़ी कंपनी की सॉफ्टवेयर सलूशन में COO बनी | उनकी शादी 16 साल में अपने से दोगुना बड़े आदमी से हो गई थी| 18 साल की उम्र में उनके दो बच्चे भी हो गए|  उन्होंने एक खेत पर पांच रुपए प्रतिदिन के हिसाब से काम किया| उनके लिए सबसे बुरा वक़्त था जब उन्होंने अपने बच्ची को पैसे की कमी की वजह से मारने की सोची और खुद भी दो बार अपनी जान लेने की सोची -पढ़िए पूरी कहानी –  

यह कहानी वहां से शुरू होती है जब उनके teacher पिता अपनी नौकरी छुट जाने पर अपनी दो बेटियों को अनाथ आश्रम मे एवं अपने बेटे को अपने साथ रखने का निश्च्य किया | ज्योति की बहन भाग कर वापस अपने घर आ गयी जबकि ज्योति 9 साल की उम्र मे वही रुक कर आगे बढ़ने का मन बना चुकी थी | अनाथ आश्रम मे अपने परिवार के प्यार के बिना बहुत भी बुरा समय निकला और सरकारी स्कूल मे पढ़ाई शुरू की लेकिन 16 साल की उम्र मे जबरदस्ती उनकी शादी उनसे उम्र मे बहुत बड़े आदमी से करा दी गयी| 

Jyothi Reddy Success Story
Old Photo of Jyoti Reddy

इन सब तकलीफों से गुजरने के बाद जिस चीज से ज्योति को सबसे ज्यादा नफरत थी वह थी गरीबी | उन्हें रोज अपने सपनों के पीछे भागना पड़ता| उनके कुछ सपने तो बहुत सरल थे| जैसे चार डब्बे दाल चावल ताकि उनके बच्चे ठीक से खाना खा सके| और कुछ सपने बढ़े थे कैसे सूटकेस में 10 नई साड़ियां|  

Jyothi Reddy Success Story
Jyoti reddy Today

उनका संघर्ष जारी रहा और उन्होंने  1992 मे किसी तरह अपनी BA पूरी की | और बाद मे एक 396 Rupees  salary मे teacher बन कर स्कूल मे पढ़ाने लगी | बाद मे कंप्यूटर कोर्स ज्वाइन किया व् किसी के कहने पर Year 2000 मे US का वीसा लेकर अपने सपने पुरे करने के लिए वहां चली गयी | सपना बड़ा था पर पैसे कम | 

उन्होंने US मे Gas स्टेशन मे , मोटल्स मे बाथरूम क्लीनिंग का एवं और भी बहुत सारे काम किये | लेकिन बाद मे उनको एक कैसेट शॉप मे $420 की नौकरी मिल गयी | एक दिन एक इंडियन ने उनको recuriting firm मे $1000 की नौकरी ऑफर की जिसमे रहना एवं खाना फ्री था | यह वह टाइम था जब उनको अमरीकन सिटीजन्स से डील करना था जबकि उनको इंग्लिश अच्छी तरह से नहीं आती थी | 

बाद मे कुछ समय के बाद उन्होंने अपना काम शुरू करने की सोची | उन्होंने वीसा के प्रोसेस को बहुत अच्छी तरह से समझ लिया था अब उन्होंने $40000 की सेविंग से अपनी कंसल्टिंग फर्म खोली एवं सबसे पहले एक गुजराती लड़के को सॉफ्टवेयर कंपनी मे जॉब दिलाई | वह दिन था और आज उन्होंने मुड़ कर नहीं देखा | 

उन्होंने अपनी लड़ाई खुद घड़ी और अपनी किस्मत को अपने हाथों से संवारा|  अबुल कलाम आजाद उनके  आदर्श थे|  और वह खुद भारत में अनाथ बच्चों की आदर्श है|  

Read more stories at 

http://achhagyan.com/success-story-in-hindi/ 

Jyothi Reddy Success Story

Leave a Reply